8 June 2009

सोने के मुल्ये में स्थिर झुकाव- जून 08, 2009

हिन्दी अनुवाद:
सोने के मुल्ये में 6 जून को आंतरिक मुल्ये 210 रूपये से 14,880 रूपये हो गया प्रति 10 ग्राम बिलियन बाजार द्बारा नई दिल्ली में ऋण उत्थान के लिए स्थिर ग्लोबल संकेत में थोक व्यापारी द्बारा विक्रय संकेत में परिवर्तन हुआ। चांदी भी इसी प्रवृत्ति के पीछे है और 300 रुपये से 23,000 रुपये प्रति किलोग्राम पर गिरावट आई

विक्रेताओं ने कहा कीें न्यूयॉर्क में धातु 952 डॉलर के करीब 26 डॉलर तक गिर गया एक तौले सोने व्यापार के भाव में मंदी का रुख उत्तपन हुआ, इस प्रकार नई दिल्ली में बुलियन की मांग को कम कर दिया गया

सोने और गहनों में गिरावट आने पर मुल्ये 210 से मुल्ये 14,880 रूपये और मुल्ये 14,730 रूपये पर प्रति 10 ग्राम पर आ गए, जिस समय श्रेष्ट मुल्ये 50 रूपये पर मुल्ये 12,400 रूपये प्रति आठ ग्राम हो गए थे।

एक समान स्थिरता के कारण यह सूचित किया गया की सफेद धातु के लिए तैयार चांदी के मुल्ये में 300 रूपये से मुल्ये 23,000 रूपये प्रति किलोग्राम में गिरावट आई जिस समय साप्ताहिक आधारित वितरण द्बारा मुल्ये 655 रूपये से मुल्ये 23,700 रूपये प्रति किलोग्राम हो गया था। सिक्को की खरीद के लिए 100 रूपये से 29,600 रूपये और 29,700 रूपये से 100 टुकड़े की बिक्री के लिए हानि हुई।

English Translation:

The gold prices tumbled on June 6 by Rs 210 to Rs 14,880 per 10 gram in the bullion market in New Delhi due to the emergence of selling by stockists, triggered by weak global cues. The silver also followed the same trend and fell by Rs 300 to Rs 23,000 per kg.

The marketmen said the trading sentiment in the gold turned bearish as the metal in New York fell by nearly 26 dollar to 952 dollar an ounce, thus reducing the demand for bullion in New Delhi.

The standard gold and ornaments slipped by Rs 210 each to Rs 14,880 and Rs 14,730 per 10 gram, respectively while the sovereign fell by Rs 50 at Rs 12,400 per piece of eight gram.

A similar weakness was noticed in the white metal as silver ready dipped by Rs 300 to Rs 23,000 per kg while the weekly-based delivery by Rs 655 to Rs 23,700 per kg. Its coins also lost Rs 100 to Rs 29,600 for buying and Rs 29,700 for selling of 100 pieces.

No comments:

Post a comment