23 July 2009

बोंड की कीमतों में वृद्धि हुई- जुलाई 23, 2009

हिन्दी अनुवाद:
बोंड की कीमतों में 22 जुलाई को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सरकारी प्रतिभूतियों की मान्यता में मूल्य के वापसी खरीद की घोषणा द्वारा मुल्ये 6,000 करोड़ रुपए के बाद वृद्धि हुई। सभी, कीमतों की शोट अप के बाद अमेरिकी राजकोष के पैदावार निम्न स्तर पर गए थे। समस्त व्यापार के मात्रा पर आदेश मेल प्रणाली में मुल्ये 12,375 करोड़ रूपये से (मुल्ये 4,190 करोड़) रूपये उच्च स्तर पर थे।

12 साल में 7.94 प्रतिशत में 2021 दस्तावेजों को आरम्भ किया गया, और मुल्ये 105.5 रूपये से (7.23 प्रतिशत वाईटीएम) पर और 105.66 रूपये से (7.21 प्रतिशत वाईटीएम) पर बंद हुए और इसकी तुलना में पिछले स्तर में मुल्ये 105.26 रूपये से (7.26 प्रतिशत वाईटीएम) पर बंद हुए।

इसके अतिरिक्त, 6.90 प्रतिशत 10 साल में 2019 दस्तावेजों को प्रस्तुत किया गया और मुल्ये 100.15 रूपये से (6.87 प्रतिशत वाईटीएम) पर बंद हुए और मुल्ये 100.27 रूपये से (6.86 प्रतिशत वाईटीएम) की तुलना में पिछले स्तर पर मुल्ये 99.90 रूपये से (6.91 प्रतिशत वाईटीएम) पर बंद हुए।

English Translation:

The bond prices surged on July 22 after the announcement by the Reserve Bank of India (RBI) of a buyback of government securities worth Rs 6,000 crore. Also, the prices shot up after the US treasury yields came down. The total traded volumes on the order matching system were higher at Rs 12,375 crore (Rs 4,190 crore).

The 7.94 per cent-12 year-2021 paper opened at Rs 105.5 (7.23 per cent YTM) and closed at Rs 105.66 (7.21 per cent YTM) as against the previous close of Rs 105.26 (7.26 per cent YTM).

Moreover, the 6.90 per cent-10 year-2019 paper opened at Rs 100.15 (6.87 per cent YTM) and closed at Rs 100.27 (6.86 per cent YTM) as against the previous close of Rs 99.90 (6.91 per cent YTM).

No comments:

Post a comment