23 July 2010

Assocham Calls For Proscribing Exports Of Iron Ore : एसोचैम ने लौह अयस्क के निर्यात पर रोक लगाईं : 23rd July

हिन्दी अनुवाद:

वाणिज्य और भारत के उद्योग (एसोचैम) की एसोसिएटेड चैम्बर्स लौह अयस्क जो 60% से अधिक लौह सामग्री है के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के पक्ष में वकालत की है। यह भी कहा कि सरकार की पहल एक निर्यात शुल्क लगाने से रोकने के लिए लोहे का निर्यात किया है लौह अयस्क के निर्यात को हतोत्साहित की उनकी सहायता की नहीं है। गैर अक्षय खनिज संसाधन बहुतायत में किया जा रहा है जो भारतीय खनन कंपनियों सुपर सामान्य मुनाफे में कच्चे पदार्थ के द्वारा निर्यात किया है। एसोचैम यह भी कहा कि इस तरह के एक कदम के लिए की जरूरत है क्योंकि भारत जो अपने बुनियादी ढांचे, अचल संपत्ति और ऑटोमोबाइल क्षेत्र के साथ विकसित कर रहा है उत्पन्न हो गई है उनके विकास के चरण में है। इस प्रकार यह लौह और भविष्य में स्टील उत्पादों के लिए प्रचुर मात्रा में मांग करनी होगी। चैंबर का मानना है कि भारत सिर्फ अपनी बुनियादी सुविधाओं के विकास शुरू कर दिया है और अगले 10-15 वर्षों में इस्पात की बड़ी राशि की आवश्यकता होगी।

English Translation:

The Associated Chambers of Commerce and Industry of India (ASSOCHAM) has advocated in favour of banning the exports of iron ores which contains more than 60% iron content. It also said that the government’s initiative to curb the iron export by imposing an export duty has not helped their cause of discouraging iron-ore exports. The non renewable mineral resource is being abundantly exported by the Indian mining companies which are raking in super normal profits by exporting the raw matter. Assocham also pointed out that the need for such a step has arisen because India which is developing with its infrastructure, real-estate and automobiles sector is in their growth stages. Thus it will have abundant demand for iron and steel products in future. The Chamber is of the view that India has just started its infrastructure development and would require huge amount of steel in next 10-15 years.

No comments:

Post a comment