5 July 2010

Pranab Says No To Rollback : प्रणब मुखर्जी ने कीमते कम करने के लिए मना कर दिया : 5th July

हिन्दी अनुवाद:

वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने ईंधन की कीमतों में वृद्धि वापस कम करने के लिए मना कर दिया। 25 जून को, सरकार ने पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतें अविनियमित बढ़ा दी थी। पेट्रोल की कीमतों में अब अंतरराष्ट्रीय बाजार के साथ सिंक में अलग अलग होंगे। इस के बाद, डीजल की कीमतों में प्रति लीटर 2 रुपये, पेट्रोल प्रति लीटर 3.50 रुपये से, रसोई गैस प्रति सिलेंडर 35 रुपये से, और प्रति 3 रुपये से मिट्टी के तेल मे वृद्धि हुई। विपक्षी भाजपा के नेतृत्व वाली पार्टियों ने सोमवार को अखिल भारतीय हड़ताल का आह्वान किया है, जो मुद्रास्फीति के खिलाफ और अधिक भड़क सकती है। शुक्रवार को, भारतीय रिजर्व बैंक अपनी दो प्रमुख नीति - रेपो दर और रिवर्स रेपो उठाया - 25 आधार अपनी त्रैमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक से आगे अंक 27 जुलाई के लिए निर्धारित है, के द्वारा एक बोली में मुद्रास्फीति को नीचे कि 10 से ऊपर मँडरा रहा है लाने के लिए प्रतिशत है।

English Translation:

Finance minister Pranab Mukherjee today refused to roll back the fuel price hike. On June 25, the government hiked diesel and LPG prices and deregulated petrol prices. Petrol prices will now vary in sync with the international markets. Following this, prices of diesel rose by Rs 2 per litre, petrol by Rs 3.50 per litre, kerosene by Rs 3 per litre and LPG by Rs 35 per cylinder. The Opposition parties led by the BJP has called for an all-India strike on Monday to object against the hike, which may flare up inflation further. On Friday, the Reserve Bank of India raised its two key policy rates — the repo and reverse repo — by 25 basis points ahead of its quarterly monetary policy review meeting scheduled for July 27, in a bid to bring down inflation that is hovering above 10 per cent.

No comments:

Post a comment