18 January 2011

Rising Steel Prices Stoke Inflation Risk : स्टील की बढ़ती कीमतों ने मुद्रास्फीति जोखिम को भडकाया : 18th January

हिन्दी अनुवाद:

भले ही भारत में मुद्रास्फीति शीर्षक के लिए अत्यधिक उच्च स्तरों पर रहने के लिए जारी, इस्पात की कीमतों में हाल ही में उल्लेखनीय वृद्धि आगे मुद्रास्फीति के दबावों को जोड़ा गया है के रूप में खाद्य और ऊर्जा की लागत पहले से ही बढ़ते हैं। हलाकि स्टील तो कई उत्पादों के लिए एक इनपुट है, इस्पात की कीमतों में वृद्धि अर्थव्यवस्था में एक समग्र मूल्य निर्धारण ढांचे पर व्यापक प्रभाव पड़ता है। पिछले एक महीने से अधिक, विभिन्न इस्पात उत्पादों, विशेष रूप से फ्लैट वर्ग की कीमतें भारत में 9-12% की वृद्धि हुई है। हालांकि, स्टील उद्योग दोषी नहीं ठहराया जा के रूप में उत्पादन की अपनी लागत में अधिक तीव्र गति से बढ़ रहा है, और हाल ही में वृद्धि के बावजूद स्टील कंपनियों शायद हाशिये जो एक साल पहले के स्तर से कम नहीं है। उद्योग पहले से ही एक अंधकारमय दिसंबर तिमाही मुनाफा बढ़ती लागत की वजह से प्रभावित किया गया है स्थिर कीमतों के बीच पड़ा है। हालांकि भारत में इस्पात की मांग काफी मजबूत है, वहाँ जो वस्तु की कीमतों पर दबाव रख दिया गया है के आयात का एक बहुत कुछ किया गया है। एक बुनियादी सुविधाओं के प्रक्षेपण में 2011 की पहली तिमाही में उम्मीद लेने, स्टील की मांग अधिक सुधार करना चाहिए। हालांकि, यह उत्पादन की लागत जो दबाव में रखते हुए उद्योग है। दोनों लौह अयस्क और कोकिंग कोल की कीमतें हाल के महीनों में ही बढ़ गयी है।

English Translation:

Even as the headline inflation in India continue to remain at highly elevated levels, the recent significant rise in price of steel has further added to inflationary pressures as food and energy costs are already soaring. Since steel is an input for so many products, the rise in steel prices has a cascading impact on overall pricing structure in an economy. Over the last one month, prices of various steel products, particularly the flat category, have increased by 9-12% in India. However, the steel industry cannot be held guilty as its cost of production has been increasing at a much faster pace, and despite the recent increase, the steel companies would probably be earning margins which are less than the year-ago levels. The industry has already had a bleak quarter December as margins have been hit due to rising costs amidst stagnant prices. Even though steel demand in India is reasonably strong, there has been a lot of import of the commodity which has been keeping the pressure on prices. With a pick-up in infrastructure projection expected in first quarter of 2011, steel demand should further improve. However, it is the cost of production which is keeping the industry under pressure. Prices of both iron ore and coking coal prices have been on the rise in recent months.

No comments:

Post a comment