28 July 2011

Government Planning To Revisit The Minimum Space Criterion For SEZs: सरकार एसईजेड के लिए न्यूनतम अंतरिक्ष मानदंड में फिर से आने की योजना बना रही है : 28th July

हिंदी अनुवाद:
सरकार ने भूमि सेज प्राप्त करने के लिए डेवलपर्स द्वारा सामना कठिनाइयों की वजह से विशेष आर्थिक जोन के लिए न्यूनतम अंतरिक्ष कसौटी पुनर्विचार (एसईजेड) पर विचार कर रही है.जमीन लेने के लिए किसानों के विरोध कड़ा पड़ाव था कई सेज परियोजनाओं, डेवलपर्स की संख्या अधिग्रहण भूमि से संबंधित मुद्दों के साथ जूझ रहे हैं. वर्तमान में एसईजेड की स्थापना के लिए न्यूनतम स्थान की आवश्यकता 5,000 हेक्टेयर है.

वाणिज्य सचिव राहुल खुल्लर ने कहा, 'भूमि मुद्दे महत्वपूर्ण हैं ... मुझे लगता है कि न्यूनतम आकार कुछ ऐसा है जो की जरूरत फिर से निश्चित रूप से देखा जाएगा. आप भूमि क्षेत्र के 5,000 (हेक्टेयर) नहीं जा रहे हैं, यह एक पाइप सपना है.

English Translation:

The government is considering rethinking the minimum space criterion for Special Economic Zones (SEZs) due to difficulties faced by the developers for acquiring land for SEZs. The stiff protest from the farmers for acquiring land had halted many SEZs projects, numbers of developers are struggling with issues related to land acquisition.  At present, the minimum space requirement for setting up of SEZs is 5,000 hectare.

The commerce secretary Rahul Khullar said, 'Land issues are critical... I think the minimum size is something that needs to be looked at again definitely. You are not going to find 5,000 (hectares) of land area, it is a pipe dream.

No comments:

Post a comment