26 July 2011

RBI Hints Rate Hikes : आरबीआई ने दरो में बढ़ोतरी के संकेत दिए : 26th July

हिंदी अनुवाद :
पहली तिमाही नीति आरम्भ में , भारतीय रिजर्व बैंक ने 25 जुलाई 2011 को मौद्रिक घटनाक्रम पर पुस्तिका जारी की | बाजार मुद्रास्फीति की पृष्ठभूमि में  रेपो/रिवर्स रेपो दर में वृद्धि के लिए 25 बीपीएस के लिए सेट हुआ |

निवेश की धीमी मांग
सकल निवेश के साथ-साथ कॉर्पोरेट निवेश के इरादे 2010-11 की दूसरी छमाही में डूबे और अभी तक सुधार के लक्षण दिखा रहे है | कॉर्पोरेट बिक्री विकास मजबूत बनी हुई है लेकिन उच्च लागत की वजह से मुनाफे में मध्यस्थता दिखा रहे हैं |

आरबीआई दर वृद्धि के लिए सेट
खाद्य मुद्रास्फीति में गिरावट आई है| हालांकि, मजदूरी लागत और समर्थन मूल्य में वृद्धि के कारण खाद्य मुद्रास्फीति सामान्य मानसून पर दबाव कम नहीं हो सकता|
इन प्रवृत्तियों का संरचनात्मक सुधारो होना आपूर्ति प्रतिक्रिया को बढ़ाने के लिए अनिवार्य रहता है,
जबकि विरोधी मुद्रास्फीति
मौद्रिक नीति के पूर्वाग्रह मुद्रास्फीति की उम्मीदों पर आश्रित है|

English Translate:

At the outset of the first quarter policy, RBI has released handbook on monetary developments on 25 July 2011. The market set for 25 bps hikes in repo /reverse repo rate at the background of inflation.

Investment demand slows down
Aggregate investment as well as corporate investment intentions dipped in the second half of 2010-11 and are yet to show signs of improvement. Corporate sales growth remains robust but profits are moderating due to higher costs. Despite some deceleration, private consumption demand continues to be strong.

RBI set for rate hike
Food inflation has declined. However, near-normal monsoon may not ease pressure on food inflation further due to increases in wage costs and support prices. These trends necessitate structural reforms to enhance supply response, while the anti-inflationary bias of monetary policy anchors inflation expectations.

No comments:

Post a comment