28 September 2011

Govt Moving Fast On Its Plan To Open $450 Billion Retail Industry : सरकार ने अपनी योजना पर तेजी से बढ़ $ 450 अरब खुदरा उद्योग खोलें : 28-09-11

हिन्दी अनुवाद :
सरकार जल्दी वाल मार्क छोटे किराना और पड़ोस की दुकानों में दस लाख नौकरियों के नुकसान पर चिंता के बावजूद जैसे अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को अपनी 450 अरब डॉलर का खुदरा उद्योग खोलने की योजना पर बढ़ रहा है। एशिया की तीसरी खेलने वाली सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था साल के लिए अपने खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की अनुमति पर है।

सरकार की ओर से अच्छी तरह से निजी क्षेत्र से विशेषज्ञों की वकालत की है कि खुदरा क्षेत्र के उद्घाटन खाद्य कीमतों कैपिंग में मदद मिलेगी, लेकिन जो अब भारत के खुदरा अर्थव्यवस्था में रीढ़ हैं छोटे दुकानदार द्वारा विरोध किया है। वाल - मार्ट, कार्रेफौर एसए, टेस्को पीएलसी और मेट्रो एजी की तरह विशाल बहुराष्ट्रीय कंपनियों कड़ी मेहनत कर पैरवी तेजी से बढ़ रही भारतीय खुदरा बाजार बाजार को पहुँच प्राप्त है।

English Translation :

The government is moving quickly on a plan to open its $450 billion retail industry to international players like Wal-Mark, in spite of concerns over the losses of million jobs in small kirana and neighborhood stores. Asia’s third largest economy has dallied for years on allowing foreign direct investment (FDI) in its retail sector.

Experts from government as well as from private sector has advocated that opening of retail sector would help in capping food prices, however is resisted by the small shopkeepers who are now the backbone in India's retail economy. The huge multinationals like Wal-Mart, Carrefour SA, Tesco Plc and Metro AG have been lobbying hard to get access to the fast growing Indian retail market.

No comments:

Post a comment