30 September 2011

Govt To Borrow Additional Rs 52.8 Lakh Crore In Second Half : सरकार की दूसरी छमाही के अतिरिक्त 52.8 लाख करोड़ रुपये उधार लिए : 30-09-11

हिन्दी अनुवाद :

29 सितंबर को वित्त मंत्रालय ने कहा कि मौजूदा वित्तीय वर्ष की दूसरी छमाही में सरकार बाजार से एक अतिरिक्त रु 52,800 करोड़ बजट अनुमान से अधिक, बांड पैदावार उच्च भेजने उधार होगा। हालांकि, सरकार को उम्मीद है कि इस अतिरिक्त उधार 2011-12 में सरकार का राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 4.6% लक्ष्य को प्रभावित नहीं करेगा।

भारत के अधिकारियों की बैठक रिजर्व बैंक के बाद, आर्थिक मामलों के सचिव आर गोपालन ने कहा, सरकार की दूसरी छमाही के लिए 52,800 करोड़ रुपये सकल उधारी बढ़ रहा था। कारण अल्प बचत संग्रह में एक डुबकी है वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में सरकारी उधारी में वृद्धि हुई है, क्योंकि 10 आधार अंकों की दस वर्ष बेंचमार्क सरकारी बॉन्ड पर पैदावार में वृद्धि शुरू हो गयी है। यह 8.44% पर बंद सरकार से अतिरिक्त उधार लेने के कारण बाजार की उम्मीदों से ज्यादा था।

English Translation :

The finance ministry on September 29, said the government in the second half of the current financial year would borrow an additional Rs 52,800 crore from the market, more than the budget estimate, sending bond yields higher. However, the government is hopeful that this additional borrowing will not affect the government’s fiscal deficit target of 4.6% of the GDP in 2011-12.

After the meeting the Reserve Bank of India’s officers, the Economic Affairs Secretary R Gopalan, said, the government was increasing the gross borrowings by Rs 52,800 crore for the second half. ‘The reason is a dip in the small savings collection.’ Because of the increase in government borrowing in second half of the fiscal year, triggered an increase in the yields on the ten-year benchmark government bond by 10 basis points. It closed at 8.44% due to the extra borrowing from government was much higher than market expectations.

No comments:

Post a comment