23 September 2011

RBI Stiffens Return Filing Format For NBFCs : भारतीय रिजर्व बैंक ने एनबीएफसी के लिए स्तिफ्फेंस से रिटर्न फाइलिंग स्वरूप करे : 23-09-11

हिन्दी अनुवाद :

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अपनी अधिसूचना में 22 सितंबर को गैर - बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए रिटर्न दाखिल स्वरूप (एनबीएफसी) खुलासे बनाने के लिए कड़ी कर दी गई जिसके तहत वे अधिक बार केंद्रीय बैंक करने के लिए अपनी जमा और उधार देने की गतिविधियों के लिए करनी पड़ेगी। संशोधित स्वरूप करने के अनुसार एनबीएफसी ने अपनी जमा और एक त्रैमासिक आधार पर केंद्रीय बैंक के लिए उधार गतिविधियों के बारे में खुलासे से की है। एनबीएफसी भी जमा स्वीकृति, विवेकपूर्ण मानदंड, पूंजी बाजार जोखिम, आदि करने के लिए संबंधित विभिन्न रिटर्न फाइल आवश्यक हैं।

इसी तरह, भारतीय रिजर्व बैंक भी गैर जमा कहा है एनबीएफसी लेने के लिए पूंजी कोष, जोखिम भारित आस्तियों, जोखिम परिसंपत्ति तिमाही आधार पर दूसरों के बीच अनुपात, पर विवरण प्रस्तुत है। एनबीएफसी जो जमा स्वीकार करने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक को तरल संपत्ति पर तिमाही रिटर्न जमा करना होगा।

English Translate :

The Reserve Bank of India (RBI) on September 22 in its notification tightened the return filing format for non-banking financial companies (NBFCs) under which they will have to make disclosures about their deposit and lending activities to the central bank more frequently. According to the revised format the NBFCs have to make disclosures about their deposit and lending activities to the central bank on a quarterly basis. NBFCs are also required to file various returns related to deposit acceptance, prudential norms, capital market exposure, etc.

Likewise, the RBI has also asked non deposit taking NBFCs to submit statements on capital funds, risk weighted assets, risk asset ratio, among others on quarterly basis. However, norms relating to reporting about liquid asset exposure to capital market among other have not been changed. The NBFCs which accepts deposits will have to submit quarterly returns on liquid assets to the RBI.

No comments:

Post a comment