7 October 2011

Finance Ministry Says Government’s Fiscal Deficit Under Control: वित्त मंत्रालय सरकार ने राजकोषीय को घाटे के तहत नियंत्रण कहना है: 07-10-11

हिन्दी अनुवाद :

वित्त मंत्रालय ने कहा है कि सरकार डर के बारे में चालू वित्तीय वर्ष के लिए राजकोषीय घाटा लक्ष्य लापता अनुचित है। सरकार का राजकोषीय घाटा लक्ष्य को पूरा नहीं करने के तर्क में सबसे आगे आया है जब सरकार ने 2011-12 की दूसरी छमाही के लिए एक अतिरिक्त रु 52,872 करोड़ रुपए है, जो 1 अक्टूबर से शुरू की घोषणा की। कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि सरकारी उधारी 1 लाख करोड़ रुपये को छू सकता है। सरकार वर्तमान बजट रुपये 4.17 लाख करोड़ की तुलना में 4.70 लाख करोड़ रुपये उधार लेने का लक्ष्य है। 2011-12 के लिए सकल घरेलू उत्पाद के 4.6% पर, सरकार अपने राजकोषीय घाटा लक्ष्य का अनुमान है (जीडीपी) तथापि, निजी मूद्य्स जैसे रेटिंग एजेंसियों का मानना ​​है कि राजकोषीय घाटा लगभग 5% या 5,5 % से 6 होगा है।

English Translation :

The Ministry of finance has opined that the fear about government missing the fiscal deficit target for the current financial year is unwarranted. The argument of government not meeting the fiscal deficit target came in forefront when the government announced an extra Rs 52,872 crore for the second half of the 2011-12, which started from October 1. Many experts have the view that the government borrowing may touch Rs 1 lakh crore. The government is presently aiming to borrow Rs 4.70 lakh crore compared to the budgeted Rs 4.17 lakh crore. For the 2011-12, the government has estimated its fiscal deficit target at 4.6% of the Gross Domestic Product (GDP) however, private rating agencies such as Moodys’ has the view that the fiscal deficit would be around 5% or 5.5 to 6%.

No comments:

Post a comment