18 October 2011

Pranab Mukherjee Stated That India Remains Firmly On A Growth Trajectory : प्रणव मुखर्जी ने कहा है कि भारत विकास पथ पर स्थिर बना हुआ है : 18-10-11

Pranab Mukherjee Stated That India Remains Firmly On A Growth Trajectoryहिंदी अनुवाद :

केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने कहा कि भारत - एशियाई विकास बैंक (एडीबी) भागीदारी की 25 साल के जश्न मनाने पर भारत मे मध्यम लंबी दौड़ में 8.5 प्रतिशत से 9 प्रतिशत प्रक्षेपवक्र की मजबूत वृद्धि बनी हुई है। उन्होंने आगे विचार किया ​​है कि राष्ट्र को उत्पादकता बढ़ाने और विकास की गति को बनाए रखने के लिए गुणवत्ता बुनियादी ढांचे में निवेश की जरूरत है। वित्त मंत्री का बयान उस समय में आया जब एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के धीमे के संकेत दिख रहे है जबकि दूसरी तरफ मुद्रास्फीति लगभग 10 प्रतिशत का ऊंचा स्तर पर बनी रही। मुखर्जी ने कहा कि एडीबी को बाजारों के लिए खेतों को जोड़ने में मदद की जरूरत है और शुष्क भूमि कृषि, पानी के कुशल उपयोग, वर्षा सिंचित सिंचाई, सूखा प्रतिरोधी बीजों की किस्मों के विकास और उत्पादकता में सुधार लाने में अनुसंधान गतिविधियों और प्रयासों को बढ़ावा देने के अन्य इसी तरह की चिंताओं के मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है।

English Translation :

Union Finance Minister, Pranab Mukherjee stated that India remains firmly on a growth trajectory of 8.5 percent to 9 percent in the medium to long-run, at a function to celebrate 25 years of India-Asian Development Bank (ADB) partnership. He further opined that the nation needs investment in quality infrastructure to enhance productivity and sustain the growth momentum. The finance minister’s statement comes at a time when Asia’s third largest economy is showing signs of slow down while inflation on the other hand continues to remain at elevated levels of around 10 percent. Mukherjee said that ADB needs to focus on issues that help in linking farms to markets and promote research activities and efforts in improving productivity of dry-land farming, efficient use of water, rain-fed irrigation, development of drought-resistant varieties of seeds and other similar concerns.

No comments:

Post a comment