12 October 2011

RBI To Extend Interest Subsidy Of 2% On Rupee Export Credit : आरबीआई ने रूपया निर्यात ऋण पर 2% की ब्याज सब्सिडी बढ़ाये : 12-10-11

हिन्दी अनुवाद :

आदेश में निर्यात पर वैश्विक अर्थव्यवस्था के मंदी से बचाने के लिए, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) पहले और बाद श्रम गहन निर्यात क्षेत्रों के लिए लदान रूपया निर्यात ऋण पर ब्याज सब्सिडी की योजना को बढ़ा दिया गया है हस्तशिल्प, हथकरघा, कालीन और छोटे और मध्यम उद्यमों (एसएमई) से निर्यातकों 7% से कम ऋण के लिए पात्र हो जाएगा। भारतीय रिजर्व बैंक ने अपने बयान में कहा, भारत सरकार के लिए रूपया निर्यात ऋण पर 1 अप्रैल, 2011 से मार्च 2012 के प्रभाव से 2% की ब्याज की छूट देने का फैसला किया है।

भारतीय रिजर्व बैंक भी बैंकों ने कहा है ब्याज दर प्रति जो सब्सिडी 7% की एक मंजिल की दर से उपलब्ध विषय की राशि के द्वारा निर्यात ऋण सब्सिडी के लिए पात्र हैं क्षेत्रों के लिए आधार दर प्रणाली के रूप में निर्यातकों के लिए कम प्रभार्य है। भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा कि बैंकों के लिए 2% ब्याज की छूट का लाभ पर पात्र निर्यातकों के लिए पूरी तरह से गुजारें सुनिश्चित हो सकता है।

English Translation :

In order to protect from the global economy’s slowdown on exports, Reserve Bank of India (RBI) has extended the scheme of interest subsidy on pre and post shipment rupee export credit for labor intensive export sectors. The exporters from the handicrafts, handlooms, carpet and small and medium enterprises (SMEs) will be eligible for loans at 7%. ‘The government of India has decided to extend interest subvention of 2% on rupee export credit with effect from April 1, 2011 to March 2012, the RBI said in its statement.

The RBI has also asked banks to reduce the interest rate chargeable to the exporters as per base rate system for sectors which are eligible for export credit subsidy by the amount of subsidy available subject to a floor rate of 7%. ‘Banks may ensure to pass on the benefit of 2% interest subvention completely to the eligible exporters,’ the RBI said.

No comments:

Post a comment