11 June 2009

सरकारी बैंकों ने लोन प्राप्ति के लिए कटौती दर को कम कीया- जून 11, 2009

हिन्दी अनुवाद:
सरकार ने उचित दर पर ऋण उपलब्ध कराने के लिए उधारदाताओं के लिए यह प्रेरित कीया के, घर के साथ ही अन्य फुटकर ऋणों और औद्योगिक ऋण देने वाली सस्ती सार्वजनिक क्षेत्र के रूप में बैंकों के ब्याज दरों में स्लेश के मिलने कि संभावना है।

"संवाददाताओं से एसबीआई' के अध्यक्ष ओपी भट्ट ने पीएसयू बैंक के प्रमुख और वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी के बीच कि एक बैठक में उन्होंने कहा कि हमारे बैंक इस महीने के अंत तक ब्याज के दरो को घटाने कारण प्रयत्न कर रहे है।"

मुखर्जी ने "एक वित्तीय मध्यस्थ के रूप में कहा कि, बैंकों के लिए अपनी बात पर स्थिर रहने के लिए उचित दरों पर ऋण उपलब्ध कराया गया।

English Translation:

After the government prodded the lenders to provide credit at reasonable rates, the home as well as other retail loans and industrial lending may get cheaper as the public sector banks are likely to slash the interest rates.

"Our bank will decide on lowering interest rates by the end of this month," SBI''s Chairman O P Bhatt told reporters after a meeting between PSU bank heads and finance minister Pranab Mukherjee.

Mukherjee said "As a financial intermediary, the banks have to stand-by to provide credit at reasonable rates.

No comments:

Post a comment