25 June 2009

बीएसएनएल प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव के लिए सरकार के आदेश की प्रतीक्षा कर रहे है- जून 25, 2009

हिन्दी अनुवाद:
नई दिल्ली: बीएसएनएल ने मंगलवार को कहा कि आईपीओ के लिए सरकार के आदेश का इंतजार कर रहे है। कुलदीप गोयल, बीएसएनएल के सीएमडी ने कहा की, "हमें सरकार के निर्णय का इंतजार करना होगा। हमें एक बार सरकार की मंजूरी मिल जाए तब हम (कर्मचारी) यूनियनों के साथ बातचीत शुरू कर देंगे।"

बीएसएनएल ने आईपीओ की एक तनुकरण में 10 प्रतिश्त के लिए सरकार ने इक्विटी अधिकारी द्बारा आईपीओ औरे $10 अरब डॉलर की वृद्धि की उम्मीद को प्रस्तावित किया था।

हालांकि, कर्मचारियों के विरोध के कारण, मांग को बंद कर दिया गया था। इस आईपीओ के प्रस्ताव को एक वर्ष पहले ही प्रस्तुत किया गया था।

इसके अलावा, बीएसएनएल बोर्ड ने अफ्रीका में अधिग्रहण के लिए हरी झंडी दे दी है। गोयल ने कहा, की रुपये की नकदी शेष 30,000 करोड़ प्लस है।

इस बीच, बीएसएनएल ने यह घोषणा की है कि एरिक्सन देश के उत्तरी और पूर्वी भागों में अगले 3 या फिर 4 वर्षों में 43 लाख जीएसएम लाइनों के उपकरणों की आपूर्ति के लिए स्विडिश फर्म योग्य है।

English Translation:

New Delhi: BSNL on Tuesday said that it is awaiting the government's nod for its IPO. Kuldeep Goyal, CMD of BSNL, said "We will have to await the decision of the government. We will start negotiating with (employee) unions once we get the government's approval".

BSNL had proposed a dilution of 10 per cent of the government's equity holding through an IPO and the IPO is expected to raise $10 billion.

However, due to the opposition from the employees, the offering was put off. The IPO proposal was submitted a year ago.

Besides this, the BSNL board has given a green signal for acquisition in Africa. We have a cash balance of Rs 30,000 crore plus, Goyal said.

Meanwhile, BSNL announced that Swedish firm Ericsson has qualified for supplying GSM equipment to northern and eastern parts of the country for 43 million lines over the next 3-4 years.

No comments:

Post a comment