21 August 2009

जूट की कीमतों में अधिनियम के कमजोर पड़ने पर पैकेजिंग में गिरावट आई- अगस्त 21, 2009

Hindi News About Jute Exports हिन्दी अनुवाद:
जूट की कीमतों में गिरावट को देखा गया, 25 प्रतिशत प्रस्तावित को कम करने के लिए जूट पैकेजिंग सामग्री अधिनियम (जेपीएमए) 1987 के द्बारा, उद्योग के विशेषज्ञों के अनुसार इसे प्रस्तावित किया गया। हालांकि, कीमतों में पहले से ही अधिक से अधिक 40 प्रतिशत या अगस्त में 1400 रुपए प्रति क्विंटल की हानि हुई है।

अगस्त में कच्चे जूट की कीमत 1,800 रुपए प्रति क्विंटल थी और जुलाई में 3200 रुपए खोने के सत्तारूढ़ को देखा गया। वर्षा ने जूट के फसलों में कम गुणवत्ता के उत्पादन के रेटिंग को प्रभावित किया है। किसानों की समस्या और बाजार में खरीददारों की अनुपस्थिति से, श्री संजय कजरिया, अध्यक्ष, भारतीय जूट मिल्स एसोसिएशन के अनुसार अब यह जटिल हो गया है।

English Translation:

Jute prices may witness a fall if the proposed 25 per cent dilution of the Jute Packaging Materials Act (JPMA) of 1987 comes through, according to industry experts. However, the prices have already crashed by more than 40 per cent or Rs 1,400 a quintal in August.

The price per quintal of raw jute is ruling at Rs 1,800 in August, losing from Rs 3,200 in July. The poor rainfall has impacted the retting of jute crops thereby producing lower quality. The problem of farmers has been further compounded by the absence of buyers in the market, according to Mr Sanjay Kajaria, Chairman, Indian Jute Mills' Association.

No comments:

Post a comment