27 August 2009

आईओसी ईंधन के विक्रय में प्रति दिन 74 करोड़ रूपये की हानि हुई- अगस्त 27, 2009

Hindi News About Indian Oil Corporation Research हिन्दी अनुवाद:
ईंधन की ऋण विक्रय की लागत निम्न स्तर पर थी, इंडियन ऑइल कोर्पोरेसन ने कहा की मुल्ये 74 करोड़ रूपये के प्रति दिनों के कारण कंपनी के पेट्रोल के विक्रय में मुल्ये 4.60 प्रति लीटर की हानि हुई और डीजल का मुल्ये 2.33 प्रति लीटर था, इसके अतिरिक्त केरोसिन के मुल्ये 15.46 प्रति लीटर की हानि हुई और भौतिक एलपीजी सिलेंडर के मुल्ये में 158.78 प्रति लीटर की हानि हुई इस कारण सरकार ने पुनः अवलोकन फुटकर की कीमतों को स्वीकार नही किया।

इसके अतिरिक्त, यह कहा जाता है की उनके पुनः अवलोकन के अधीन विक्रय के लिए पेट्रोल, डीजल, भौतिक एलपीजी और केरोसिन के बारे में प्रतिदिनों के प्रति वर्ष में मुल्ये 74 करोड़ रूपये का विक्रय किया जाएगा, उनसे यह आशा की जा रही है की मुल्ये 23,000 करोड़ रूपये के अधीन पुनः अवलोकन के लिए अशोधित तेल की कीमत में रोकथाम प्रचलित लेवल की जाए, जबकि स्टेट ईंधन के फुटकर विक्रेताओं आईओसी ने कहा, चार ईंधनों विक्रय के लिए भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम के मुल्ये में एक साथ 140 करोड़ प्रतिदिनों की हानि हुई।

English Translation:

Due to the selling fuel below cost, Indian Oil Corporation said that it is losing Rs 74 crore per day as the company was selling petrol at a loss of Rs 4.60 per litre and diesel at Rs 2.33 a litre moreover, it loses Rs 15.46 per litre on kerosene and Rs 158.78 per domestic LPG cylinder as the Government has not allowed them to revise retail prices.

Additionally, it is said that their under-recovery on sale of petrol, diesel, domestic LPG and kerosene is about Rs 74 crore per day whereas for the full year, they expect Rs 23,000 crore under recovery if crude oil prices are to stay at current levels whereas state fuel retailers IOC, Bharat Petroleum and Hindustan Petroleum together lose about Rs 140 crore per day on sale of the four fuels.

No comments:

Post a comment