30 January 2010

GDP will grow 7.5% but with high inflation : सकल घरेलू उत्पाद 7.5% उच्च बढ़ेगा लेकिन मुद्रास्फीति के साथ : 30th January

हिन्दी अनुवाद:

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने आज भी 2009-10 में 7.5% से 6% पिछले वित्तीय वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद की विकास दर का अनुमान के रूप में इसे मार्च अंत तक 8.5% की वार्षिक मुद्रास्फीति की दर के लिए दृष्टिकोण बढाया। रिजर्व बैंक ने पहले 6% और मुद्रास्फीति में वृद्धि दर 6.5% से कम आंकी थी। भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा कि कृषि उत्पादन और औद्योगिक उत्पादन और सेवा क्षेत्र में जारी वसूली में एक के पास विकास शून्य मान लें, 2009-10 के लिए सकल घरेलू उत्पाद विकास के लिए आधारभूत प्रक्षेपण अब 7.5% के लिए उठाया है।" यह आशा है कि Q3 विकास, जो दक्षिण की कमी का पूरा असर खरीफ फसलों पर पश्चिम मानसून की वर्षा को प्रतिबिंबित करेगा जोकि Q2 से कम है। आर बी आई की संभावना पूर्ण रूप से बेहतर होने की है, 2009-10 में कृषि सकल घरेलू उत्पाद में विकास शून्य के निकट होने की उम्मीद है।


English Translation:

The Reserve Bank of India (RBI) today projected the GDP growth for 2009-10 fiscal from 6% last year at 7.5% even as it hiked the outlook for annual inflation rate to 8.5% by end-March. The RBI earlier had pegged the growth rate at 6% and inflation at 6.5%. RBI said "Assuming a near-zero growth in agricultural production and continued recovery in industrial production and services sector, the baseline projection for gross domestic product growth for 2009-10 is now raised to 7.5%,". It is expected that Q3 growth, which will reflect the full impact of the deficient south-west monsoon rainfall on kharif crops, would be lower than that of Q2. As rabi prospects appear to be better, on the whole, agricultural GDP growth in 2009-10 is expected to be near zero.

No comments:

Post a comment