15 March 2010

NCDEX looks at non-agri commodities : एनसीडीईएक्स गैर कृषि वस्तुओ मे विचार कर रही है : 15th March

हिन्दी अनुवाद:

नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज (एनसीडीईएक्स) में गैर मौजूदगी में कच्चे तेल की तरह कृषि जिंस बाजार को बढ़ावा देने लगता है। यह तेल विपणन कंपनियों को मंच प्रदान करके प्रतिरक्षा करेंगे। मुख्य व्यापार अधिकारी विजय कुमार, एनसीडीईएक्स ने कहा कि वे प्रतिभागियों से बात कर रहे हैं, जो बड़े लोग, न्य्मेक्स या सिंगापुर ओटीसी बाजार का उपयोग कर रहे है। वे इंडियन ऑयल और भारत पेट्रोलियम प्रतिभागियों को पूछ रहे हैं कि वे अपने कच्चे तेल की कुछ को घरेलू स्तोत्र दे। इस बीच, इसके अलावा, एनसीडीईएक्स धातुओं पर ऐसी इस्पात और सोने के रूप में तनाव के लिए वस्तुओं की अपनी टोकरी में विविधता लाने के लिए होगा। उन्होंने कहा कि जिंस वायदा और दो अंकों खाना मुद्रास्फीति के बीच में कोई कड़ी नही थी। यह देखा गया है कि प्रतिबंध भी कीमतों को नियंत्रित नहीं कर सका।

English Translation:

The National Commodity & Derivatives Exchange (NCDEX) looks to boost its presence in non-agri commodity market like crude oil. This it will do by providing hedging platform to oil marketing majors. Vijay Kumar, chief business officer, NCDEX said that they are talking to participants, large ones, who use Nymex or Singapore OTC market. They are asking these participants such as Indian Oil and Bharat Petroleum to source some of their crude domestically from them. Meanwhile, apart from this, NCDEX would stress upon metals such as steel and gold in order to diversify its basket of commodities. He said that there was no link between commodity futures and the double-digit food inflation. It is observed that even a ban could not contain prices.

No comments:

Post a comment