30 April 2010

NHAI On An Overdrive, Seeks Private Players एनएचएआई की अत्यधिक सक्रियता, निजी कंपनियों की तलाश : 30th April


हिन्दी अनुवाद

भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) को नकद की तंगी है, अब अपने राजस्व को बढ़ाने के उपायों की खोज कर रहा है। एनएचएआई अपने टोल संग्रह खंड को निजी कंपनियों के हाथ में देने की योजना बना रहा है। एनएचएआई कम टोल संग्रहण के कारण राजस्व का नुकसान उठा रहा है। एनएचएआई यंत्रीकृत टोल सुविधाएं, जो वर्तमान में पूर्व सैनिकों द्वारा चलाए जाते है, अब निजी कंपनियों को मिलेगा। अपर्याप्त टोल संग्रहण हमेशा से एनएचएआई की प्रमुख समस्या है। एनएचएआई कंपनियों से चाहता है कि सड़कों के लिए टोल संग्रह संभाले , जो स्वयं के धन के द्वारा बनाया गया था।

English Translation:

Cash strapped National Highway Authority of India (NHAI) is now exploring measures to increase its revenue. NHAI is planning to hand over its toll collection segment to private players. NHAI has been suffering revenue losses due to lower toll collection. NHAI will now get private players with mechanized tolling facilities on board, which is at presently run by ex-servicemen. An inefficient toll collection is always the major problem bleeding the NHAI reserves. NHAI wants the companies to handle the toll collection for the roads, built by its own funds.

No comments:

Post a comment