30 August 2011

Benchmarks Lose Momentum As Sanguinity Wanes Post GDP Numbers : मानदंड सकल घरेलू उत्पाद की संख्या में आशावाद की कमी से गति खो चूका है : 30-08-2010

हिंदी अनुवाद:

मंगलवार को दोपहर व्यापार में आशावादि भारतीय इक्विटी बाजारों में कड़ा स्वभाव मिला और सीमावर्ती संकेत आया की कुछ हद तक बाजार के सकल घरेलू उत्पाद संख्या की पहली तिमाही का समालोचन करेगा|

भारतीय अर्थव्यवस्था अप्रैल - जून की अवधि में 7.7% से बढ़ी है, 2010 के बाद से धीमी गति से, एक मुख्य रूप से विनिर्माण क्षेत्र के खराब प्रदर्शन की वजह से मंदी की आशंका की पुष्टि की| भारतीय रिजर्व बैंक का दशक एक में सबसे लंबे समय तक आर्थिक तंगी के खिंचाव ने उधार को ओर अधिक महंगा है और धीमा निवेश बना दिया है और उपभोक्ता एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की मांग कर रहे है|

English Translation:

The optimism in Indian equity markets got tempered in afternoon trades on Tuesday and the frontline indices came off to some extent from the intraday highs as marketmen dissected the first quarter GDP numbers.

Indian economy grew at 7.7% in the April-June period, the slowest pace since 2010, confirming fears of a slowdown mainly due to the poor performance of the manufacturing sector. RBI’s the longest stretch of monetary tightening in a decade have made borrowing more expensive and slowed investment and consumer demand in Asia's third-largest economy.

No comments:

Post a comment