20 September 2011

Growth In Leather Export Units Likely : चमड़े निर्यात की इकाइयों में वृद्धि की संभावना है : 20-09-11

हिन्दी अनुवाद :

भारतीय चमड़े के निर्यात इकाइयों के विकास के लिए आवेगी यूरोपीय बाजारों में आर्थिक स्थिति के पीछे और कच्चे माल और इनपुट की कीमतों में तेज वृद्धि पर इस वर्ष को रोकने की संभावना है। जो पहले से ही 50 प्रतिशत की मार्जिन घिस रहा है। भारत में चमड़े के निर्यात इकाइयों मुख्य रूप से छोटे और मध्यम उद्यमों (एसएमई) का प्रभुत्व है।

चमड़ा निर्यात (CLE) के परिषद के अध्यक्ष के अनुसार, 'निर्यात में वृद्धि करने के लिए अगले छह महीने अमेरिका और यूरोपीय बाजारों में अस्थिर आर्थिक स्थिति के कारण अवधि में स्टाल की संभावना है। अनिश्चित आर्थिक परिस्थितियों के साथ, अस्तित्व का सवाल उद्यमियों के लिए एक प्राथमिकता बन गयी है। घरेलू बाजार की ओर लक्ष्य और जो अब समेकन पर देख रहे है। लेकिन दूसरे हाथ पर, उद्योग भी 2014 तक 3.8 अरब डॉलर के मौजूदा स्तर से 5.4 अरब डॉलर का एक आकार पाने की उम्मीद है।

English Translation :

The growth of Indian leather export units is likely to halt this year on the back of impulsive economic conditions in the European markets and the sharp increase in raw material and input prices, which has already eroded margins by 50 percent. The leather export units in India are primarily dominated by small and medium enterprises (SMEs).

According to the chairman of the Council of Leather Exports (CLE), ‘export growth is likely to stall in the next six-month period due to volatile economic conditions in the US and European markets.’ With uncertain economic circumstances, the question of survival has become a priority for entrepreneurs, who are now looking at consolidation and aiming towards the domestic markets. But on the other hand, the industry is also expected to attain a size of $5.4 billion by 2014 from the current level of $3.8 billion.

No comments:

Post a comment