1 March 2012

Banks Ask RBI For Better Clarity On Restructured Loans : बैंकों ने पुनर्गठित ऋण पर बेहतर स्पष्टता के लिए भारतीय रिजर्व बैंक से पूछा : 01-03-12

Banks Ask RBI For Better Clarity On Restructured Loansहिंदी अनुवाद :

बैंकों ने ऋण पुनर्गठन की परिभाषा पर रिजर्व बैंक से बेहतर स्पष्टता के लिए पूछा है बैंकों का मानना ​​है कि हर ऋण पुनर्गठन एक गैर निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) के रूप में नहीं माना जाना चाहिए और जब भुगतान समय की एक विशिष्ट अवधि के लिए नियमित रूप से हो तो खाते को सामान्य संपत्ति के रूप में मंजूरी दे देनी चाहिए।

भारतीय रिजर्व बैंक के साथ एक बैठक में, भारतीय बैंकरों ने कहा है कि वर्तमान में पुनर्गठन खाते की कोई स्पष्ट परिभाषा नही है। वास्तव में सब पुनर्गठन एनपीए के बराबर के रूप में देखा जाता है। पुनर्गठन का मतलब है कि देय राशि तय किए गये समय के अनुसार नही दी गयी है ना की संशोधित अनुसूची के अनुसार और ऋण की अंतिम वसूली किसी भी संदेह में नहीं हैइसलिए बैंकरों ने मांग की है कि भारतीय रिजर्व बैंक को एक स्पष्ट दिशानिर्देश देना चाहिए जिससे दृष्टिकोण में कोई विचलन ना आये जब लेखापरीक्षक अंदर आते हो।

English Translation :

Banks Ask RBI For Better Clarity On Restructured Loans

Banks have asked for greater clarity on the definition of a restructured loan from the RBI. The banks are of the opinion that every restructured loan should not be treated as a non performing assets (NPA) and as and when payments become regular for a specific period of time, the account should be treated as a normal asset.

In a meeting with the Reserve Bank of India, Indian bankers have stated that currently there is no clear definition of a restructured account. In fact everything restructured is seen as equivalent to NPA. Restructured means that the dues are not being paid according to the schedule, not according to the revised schedule and the ultimate recovery of the debt is not in doubt. Hence the bankers have demanded that the RBI should give a clear guideline so that there is no divergence in approach when auditors come in.

No comments:

Post a comment