23 June 2009

आंध्र बैंक में राष्ट्रीयता को उपस्थित किया गया- जून 23, 2009

हिन्दी अनुवाद:
आंध्र बैंक ने यह विकल्प प्रसारित किया की उपस्थित राष्ट्रव्यापी विभाग के लिए विकास रणनीति की उचित बड़े बैंक द्बारा अगले साल अगस्त में इसे आरम्भ किया जाएगा। स्रोत के लिए, अगले दो वर्षों में अनुसार, यह बैंक केन्द्र की 200 शाखाओं के लिए बाहरी आधर प्रदेश की उचित एक राष्ट्रीय बैंक को खोलना चाहते है। इसके अलावा, बैंक भी अगले 15 महीनों में 1.5 लाख करोड़ रुपए को पार करने के व्यापार पर विचार कर रहे है।

बैंक पंजाब में 121 शाखाओं को इस साल के बाहर 100 शाखाओं के साथ ही हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान के आसपास खोलने की उम्मीद है। बैंक पहले ही श्रेणी में 62 विकास केंद्रों में द्वितीय के साथ ही श्रेणी-III में स्थानों की पहचान कर रहे थे। वर्तमान में, बैंक की 1438 शाखाएं हैं। जिनमे से आन्ध्र प्रदेश की 1004 शाखाओं में 53 प्रतिश्त के कारोबार को उत्तपन किया जा रहा है।

English Translation:

Andhra Bank is looking at the option to expand its presence nationwide as part of its growth strategy to become a large bank by August next year. According to the source, in the next two years, the bank eyeing to open over 200 branches outside Andhra Pradesh to become a national bank. Moreover, the bank is also looking at crossing Rs 1.5 lakh crore business in the next 15 months.

The bank hopes to open around 100 branches out of 121 branches this year in Punjab as well as Haryana, Delhi, Uttar Pradesh, Maharashtra, Rajasthan. The bank had already identified 62 growth centres in Tier-II as well as Tier-III locations. Currently, the bank has 1,438 branches. Out of this, 1,004 are in Andhra Pradesh that generating 53 per cent of the business.

No comments:

Post a comment