18 August 2009

चीनी के उत्पादन में 2009 से 2010 के स्तर में 1 मिलियन टन की वृद्धि हो सकती है- अगस्त 18, 2009

हिन्दी अनुवाद:
चूंकि हाल ही में बारिश ने गन्ने की फसलों के, अगले सत्र में भारत के चीनी उत्पादन में मदद की है और एक लाख टन से अधिक 16 मिलियन टन तक बढ़ाने की संभावना है। हालांकि, चीनी उत्तपादन में 2008 से 2009 के स्तर में (अक्टूबर-सितम्बर) तक 14.8 मिलियन टन के अनुसार पिछले स्तर में 26.4 मिलियन टन की गिरावट को संभावित किया गया।

इसके अतिरिक्त, यह कहा गया की चीनी की कीमतों में प्राप्ति के बारें में मुल्ये 30 प्रति किलो ग्राम में पिछले साल फुटकर बाजार के अनुसार मुल्ये 17 रूपये से 18 रूपये प्रति किलो ग्राम पर था।

इसके अलावा, केंद्र सरकार ने चीनी मिलों के शून्य शुल्क में और कच्ची चीनी को आयात करने के लिए भी आदेश दिया है की चीनी की उपलब्धता बढ़ाने के लिए और बढ़ती कीमतों पर नियंत्रित दस लाख टन की एक आवरण के साथ परिष्कृत चीनी के आयात की अनुमति दी जाए

English Translation:

Since the recent rain has helped the sugarcane crop, India's sugar production in the next season is likely to increase by over a million tonne at 16 million tones. However, sugar production in the 2008-09 season (October-September) is probable to decline at 14.8 million tonnes from 26.4 million tonnes in the previous season.

Moreover, it is said that sugar prices have reached about Rs 30 a kg in the retail market, from Rs 17-18 per kg the previous year.

Additionally, the Centre has permitted sugar mills to import raw sugar at zero duty and also permitted the import of refined sugar with a cap of one million tones in order to increase the availability of sugar and control the rising prices.

No comments:

Post a comment