31 December 2009

आधार धातु दबाव में रहेंगे - Base metals (commodities) - December 31, 2009


Hindi Translation:
आधार धातुओं में अगले साल अस्थिरता बने रहने की उम्मीद है। इसके अलावा, साल के पहले तिमाही में कीमतों में तीव्र गिरावट की संभावना, एवम अंत की दिशा में एक स्थिर और स्थायी वसूली की संभावना है। उम्मीद है के ताम्बा (copper) और जस्ता (zinc) 2010 के लिए ख़ास धातुबने रहेंगे।

प्रवीण सिंह, Sharekhan, के अनुसार चाइना (china) की कम मांग के कारन के बड़े पैमाने की उद्भव एकत्रित होने से धातुओं के rates अपनी वर्तमान स्तर से नीचे आयेंगे। इसका एक कारण ये भी है के china की मांग अभी भादने की आशंका नहीं है। चीन, विश्व के आधार धातुओं के सबसे बड़े उपभोक्ता, ने बुनियादी ढांचे पर निवेश कम कर दिया है।

LME पंजीकृत सूची-गोदामों पर कॉपर 495,000 टन, अब तक के सबसे ऊंचे स्तर से बस 40,000 टन कम, पर बना रहा। अल्युमिनियम और निकिल स्टॉक शीर्ष पर शासन कर रहे हैं, जबकि सीसा और जस्ता उनके रिकार्ड ऊंचे भाव से कुछ कम हैं। इससे सब से एक उचिन अनुमान लगाया जा सकता है की आधार धातु में 25-30 प्रतिशत तक बदलाव आ सकता है, सिंह ने आशा व्यक्त की।

English Translation:
Base metals are expected to witness volatility next year. In addition, prices likely witness a sharp fall in the first quarter followed by a steady and sustainable recovery towards the end. Besides, copper and zinc may become the hot pick for 2010.

According to Praveen Singh, an analyst with Sharekhan, massive inventories due to the emergence of low Chinese demand would pull base metals from the current level as the dragon’s stockbuilding is unlikely to rise in the future. China, the world’s largest consumer of base metals, has slowed down investment on infrastructure.

Copper inventory on the LME-registered warehouses, increased sharply at 495,000 tonnes, a just 40,000 tonnes lower than the all-time high level during the last recessionary period. Aluminium and nickel stocks are ruling on the top while lead and zinc are marginally lower than their record highs. This gives a fair indication that an imminent change to the tune of 25-30 per cent is due in base metals quarters, Singh hoped.

No comments:

Post a comment