25 February 2010

SBI needs to raise Rs 40,000 crore in five years- bhatt : भारतीय स्टेट बैंक को पांच साल में 40,000 करोड़ रुपए जुटाने की जरूरत है-भट्ट : 25th February

हिन्दी अनुवाद:

भारतीय स्टेट बैंक के अध्यक्ष ओ.पी. भट्ट ने कहा कि भारतीय स्टेट बैंक को अगले पांच वर्षो मे लगभग 40,000 करोड़ की पूंजी वृद्धि करनी होगी और यह एक मुद्दे के अधिकार के माध्यम से होगा और इस टियर द्वितीय पूंजी और खुदरा आय जो श्रेणी के लिए खाते के अतिरिक्त जरूरत है। हालांकि, भट्ट ने कहा कि जरूरतों पर निर्भर करता है, इस संख्या को बदलने पर विशेष रूप से बैंक की सहायक कंपनियों से रखना होगा। 40,000 करोड़ रूपये मे से, बैंक अगले वितीय वर्ष मे 20,000 रुपए तक बढ़ाने पर नजर गड़ाए हुए थे। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि अगले वित्तीय वर्ष मे बैंक की कहीं भी 10,000-20,000 करोड़ रुपए के बीच उच्चतम सीमा पर नजर है। हालांकि, भट्ट ने कहा कि बैंक के पांच वर्ष की अवधि अब थोड़ा क्षितिज पर हमेशा नजर है, हालांकि बैंक अच्छी तरह से पूंजीवाद है। बैंक हर तिमाही या छह महीने मे अगले पांच के लिए अपनी पूंजी जरूरतों को अद्यतन रखेगा। इस बीच, उन्होंने कहा कि बाजार की स्थितियों पर निर्भर करता है, बैंक का एक उपयुक्त समय पर धन जुटाएगा।

English Translation:

State Bank of India chairman, O P Bhatt said that SBI needs to raise capital around Rs 40,000 crore over the next five-years and this would be through a rights issue and this is in addition to Tier II capital and retail earnings which account for Tier I capital. However, Bhatt said that depending upon requirements, this number would keep on changing, especially of the bank''s subsidiaries. Out of the Rs 40,000-crore, the bank was eyeing to raise up to Rs 20,000-crore in the next financial year. Moreover, he said that bank is eyeing at a ceiling of anywhere between Rs 10,000-20,000-crore in the next fiscal. However, Bhatt said that the bank always eyes at slightly longer term horizon of five years, though the bank was well capitalized. The bank in every quarter or six months kept updating its capital requirement for the next five-years. Meanwhile, he added that depending on the market conditions, the bank would raise funds at an opportune time.

No comments:

Post a comment