6 March 2010

New base rate for banks effective from July 1 : बैंको के लिए नई उधार दर 1 जुलाई से प्रभावी : 6th March

हिन्दी अनुवाद:

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने आधार दर प्रणाली की शुरुआत की है, जो बैंकों के लिए नए मानक उधार दर, 1 जुलाई को तीन महीने के लिए होगा। भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा कि नए बैंकों के लिए आधार उधार दर 1 जुलाई से प्रभावी हो जायगी। भारतीय रिजर्व बैंक ने पिछले महीने कहा था कि यह अप्रैल से आधार दर लागू होगी। पीएसयू बैंकों के आधार दर को 11.75 की वर्तमान मूल उधार दर - 12.5% की तुलना में 8.5% और 9.5% के रूप में की रेंज में भिन्न की उम्मीद है। भारतीय रिजर्व बैंक के बजाय वर्तमान बी पी एल आर प्रणाली के नए मॉडल के आधार दर का प्रस्ताव किया है ताकि बैंक उधार देने और अधिक पारदर्शी बन जाए। नई प्रणाली ने बैंकों को अपने आधार दर से भी कम पर उधार देने के लिए रोका है हालाँकि उसके उच्च कोटी के ग्राहकों को भी।

English Translation:

The Reserve Bank of India (RBI) deferred the introduction of base rate system, which will be the new benchmark lending rate for banks, by three months to July 1. The RBI said that the new base lending rate for banks will become effective from July 1. RBI last month had said that it would introduce the base rate from April. The base rate of most PSU banks is expected to vary in the range of 8.5% and 9.5% as compared to the present prime lending rate of 11.75 - 12.5%. RBI proposed the new base rate model instead of the present BPLR system in order to make the bank lending more transparent. The new system prevents banks to lend below their base rate even for top-rated clients.

No comments:

Post a comment