8 March 2010

Sugar output in FY10 seen at 16 MT : चीनी उत्पादन वित्तीय वर्ष 2010 मे 16 लाख टन दिखा : 8th March

हिन्दी अनुवाद:

भारत की चीनी का उत्पादन 2009/10 के लिए 16 लाख टन को छूने की उम्मीद है और पैदावार फरवरी के अंत तक 13.3 लाख टन तक पहुंच गयी। वे फरवरी के अंत तक 13।3 (लाख टन) कर चुके है और कई कारखाने अब दक्षिण और उत्तर में बंद हो रहे हैं। श्री रेणुका शुगर, के प्रबंध निदेशक नरेंद्र मुर्कुम्बी ने कहा कि वे 16 लाख टन के आसपास अंत होने की उम्मीद है। इस बीच, फरवरी में कृषि मंत्री ने कहा था कि सितम्बर 2010 को विपणन वर्ष के लिए चीनी का उत्पादन 16 करोड़ टन के पार जाने की संभावना है। यह उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में अधिक उत्पादन के कारण होगा। इसके अलावा, केंद्र सरकार चीनी के लिए स्टॉक सीमा सितंबर तक के लिए बढ़ा रही है, जहां राज्य जमा खोर और काले बाजार के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए अधिकृत है। हालांकि, पहले यह कहा था कि श्री शरद पवार, देश के खाद्य मंत्री द्वारा दिए गए वचन के बावजूद चीनी की खुदरा कीमतों में कमी के बजाय, अभी भी कीमतें बढ़ रही हैं।

English Translation:

India''s sugar output for 2009/10 is expected to touch 16 million tonnes and output touched 13.3 million tonnes by the end of February. They have done about 13.3 (million tonnes) at the end of February and many factories are now shutting down in the south and north. Thus they expect to end around 16 million tonnes stated the Managing Director of Shree Renuka Sugar, Narendra Murkumbi. Meanwhile, the farm minister had in February said the sugar output for the marketing year to September 2010 is expected to go beyond 16 million tonnes. This will be due to the higher production in Uttar Pradesh and Maharashtra. Moreover, the Centre has extended the stock limit order for sugar till September for Sugar, where the states are authorized to take action against the hoarders and black marketers. However, earlier, it was said that inspite of the promise made by Mr. Sharad Pawar, Food Minister of the country, to reduce the retail prices of sugar, still the prices are increasing.

No comments:

Post a comment