29 March 2010

Pepper Futures Continues Witnessing High Volatility : काली मिर्च वायदा में उच्च अस्थिरता जारी : 29th March

हिन्दी अनुवाद:

काली मिर्च की कीमतों इस सप्ताह के दौरान तेज गतिविधियों और तंग आपूर्ति के बीच अच्छी खरीद ब्याज पर ऊपर की ओर देखा गया। उत्पादन 50,000 टन के आसपास होने का अनुमान है। राज्य में पिछले साल अक्टूबर के माध्यम में अच्छी बारिश हुई और इसलिए 2009-10 में उत्पादन 45,000 टन से नीचे नहीं गिर सकता है। लेकिन, उपलब्धता में दबाव निस्संदेह बाजार का होता है। इसके लिए कारण हो सकता है उत्पादकों / प्राथमिक बाजार डीलरों का जो 3-4 वर्ष पुराना स्टॉक नष्ट किया था पिछले साल जब कीमतें 145 रुपए और 150 रुपए किलो के बीच था , अब बाजार से खरीदने लगे जब कीमतें 120-128 रुपए के स्तर तक गिर गया, भंडार भरने के लिए। इस बीच भारतीय वायदा बाजार की प्रवृत्ति को कड़ाई से पालन, वियतनाम भी अपनी काली मिर्च की कीमतें उपर किया है। लेकिन वे अपने मूल्यों भारतीय मूल्य से कुछ नीचे रखते थे ताकि विदेशी मांग हो ।

English Translation:

The pepper prices during the week witnessed upward movement on bullish activities and good buying interest amid tight supply. The output is estimated at around 50,000 tonnes. The state last year received good rains through October and hence the output in 2009-10 might not fall below 45,000 tonnes. But, a squeeze in availability is undoubtedly experienced in the market. The reason for this may be that the growers/primary market dealers who had liquidated their 3-4 year old stocks from mid-last year when the prices were in the range of 145 and 150 a kg, were buying from the market when the prices fell later to Rs 120-128 levels in order to replenish their stocks. Meanwhile, following the Indian futures market trend strictly, Vietnam has also pushed its pepper prices up. Indonesia was also following suit. But they used to keep their prices slightly below the Indian parity so as to corner overseas demand.

No comments:

Post a comment