10 April 2010

Microfinance companies planning to take IPO route : माइक्रोफाइनांस कंपनियां आईपीओ मार्ग लेने की योजना बना रही है : 10th April

हिन्दी अनुवाद:

माइक्रोफाइनांस संस्थाओं अब उनके आरंभिक सार्वजनिक धन की जरूरत के लिए या प्रसाद आईपीओ के माध्यम से शेयर बाजार दोहन कर रहे हैं। वे कहते हैं कि गरीबों को पैसा उधार देने और वे उम्र के आ रहे हैं। एसकेएस माइक्रोफाइनांस बाजार हिट करने के लिए सबसे पहले है और बाजार से 1,000 करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद है। इस बीच, अन्य खिलाड़ियों के इंतजार में स्पंदना और साझा मिक्रोफिन हैं। विशेषज्ञों का यह भी बंधन जैसे अन्य बड़ी कंपनियों के आईपीओ से देखते हैं, और बसिक्स क़ुइतस एक ही मार्ग के बाद देख रहे है। तुम यह एक शॉट में निजी इक्विटी से 300-400 करोड़ रूपये नहीं बढ़ा सकते। कंपनियां निकट से एसकेएस माइक्रोफाइनांस मुद्दे के भाग्य देख रहे हैं उनके भविष्य कोर्स पर फैसला करने के लिए। कई कंपनियों का ध्यान माइक्रोफाइनांस परिसंपत्ति गुणवत्ता के लिए भुगतान नहीं किया है और उन ग्राहकों के लिए ऋण चुकाने की क्षमता पर शक है।

English Translation:

Microfinance institutions are now tapping the equity market through initial public offerings or IPOs for their funding needs. They are the ones that lend money to the poor and they are coming of age. SKS Microfinance is the first to hit the market and hopes to raise over Rs 1,000 crore from the market. Meanwhile, others players waiting in the wings are Spandana and Share Microfin. Experts also see IPOs from other big firms like Bandhan, BASIX and Equitas following the same path. This is since you can''t raise Rs 300-400 crore from private equity in one shot. Companies are closely watching the fate of the SKS Microfinance issue to decide on their future course. Several microfinance companies have not paid attention to asset quality and have lent money to those customers whose capacity to repay the loans is suspect.

No comments:

Post a comment