5 June 2010

We Prefer FPO/IPO Route To Enter Markets: LIC : हम आईपीओ / एफपीओ मार्ग बाजार में प्रवेश के लिए पसंद करते है: एलआईसी : 5th June


हिन्दी अनुवाद:

जीवन बीमा निगम(एलआईसी) देश की सबसे बड़ी बीमा घर और निवेशक ने भारतीय बाजार में 09-10 वितीय वर्ष में 192.000 करोड़ रुपए की राशि का निवेश किया है। जैसा कि हम सरकार द्वारा बनाई गयी विनिवेश निति देखते है, एलआईसी का एक विपरीत सोच है। एलआईसी ने वर्तमान समय में अपनी रणनीति के अनुसार एक बड़ा निवेश किया है। एलआईसी के अध्यक्ष टीएस विजयन ने कहा कि कुल प्रीमियम संग्रह 2,00,000 करोड़ रुपये के आसपास होगा और निवेश पैसा प्रवाह और यूलिप संग्रह पर निर्भर करेगा। आईपीओ और एफ़पीओ के संदर्भ में, एलआईसी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के मामले में मुख्य रूप से एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, इस साल यह एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा योजना में और यह प्राथमिक मार्ग को बाजार में प्रवेश में प्राथमिकता देगा।

English Translation:

Life Insurance Corporation (LIC), the country''s largest insurance house and investor, invested a sum of Rs 192,000 crore in FY 09-10 in the Indian markets. As we see the disinvestment moves made by the government, LIC has an opposite view. LIC has made major investment as a part of their strategy assuming it to be a greater importance in present times. Chairman of LIC, T S Vijayan said that the total premium collection is estimated to be around Rs 2,00,000 crore and the investment will depend on the type of money flow and the collection form ULIPs. In terms of IPOs and FPOs, LIC has played a vital role mainly in terms of public sector undertakings, including this year where it plans to play a significant role and says it will prefer the primary route to enter the markets.

No comments:

Post a comment