19 April 2011

Muthoot Finance’s IPO Gets Mild Response On Its Opening Day: मुथूट फिनांस के आईपीओ को अपने उद्घाटन दिन हल्का प्रतिक्रिया:19th April

हिन्दी अनुवाद:

मुथूट फिनांस जो अपने आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के जरिए 901.25 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रहा है पहले दिन 0.16 बार सदस्यता प्राप्त किया है. यह 160-175 रुपए प्रति शेयर की प्राइस बैंड तय किया है 5.15 करोड़ इक्विटी शेयरों के आईपीओ के लिए. मुद्दा 20 अप्रैल 2011 को बंद हो जाएगा. इसे 7100520 बोलियां प्राप्त हुआ है 43775000 शेयरों के वितरण के विरुद्ध, 1247440 बोली कटौती मूल्य से प्राप्त किया गया है, 17.00 बजे एनएसई वेबसाइट पर उपलब्ध एनएसई-बीएसई ग्राफ के अनुसार. प्राइस बैंड के निचले अंत में, कंपनी 824 करोड़ रुपए जुटाएगा, जबकि ऊपरी छोर है यह 901.25 करोड़ रुपए तक जुटाने जाएगा. मुद्दा 13.85% गठन करेगा पूरी तरह से पतला पद मुद्दा कंपनी की चुकता इक्विटी शेयर पूंजी. मामले की आय को कंपनी के भविष्य पूंजी जरूरतों को पूरा करने के लिए, पूंजी आधार बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाएगा, ऋण के वित्तपोषण के लिए और सामान्य कॉर्पोरेट प्रयोजनों के लिए. आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज और कोटक महिंद्रा कैपिटल इस इसु के लीड मैनेजर है जबकि एचडीएफसी बैंक के सह प्रबंधक है.

English Translation:

Muthoot Finance which is planning to raise over Rs 901.25 crore through its initial public offer (IPO) has been subscribed 0.16 times on its opening day. It has set a price band of Rs 160-175 a share for the IPO of 5.15 crore equity shares. The issue will close on April 20, 2011. It has received 7100520 bids against the issue size of 43775000 shares, 1247440 bids have been received at the cut off price, as per the NSE-BSE demand graph available on NSE website at 17.00 pm. At the lower end of the price band, the company will raise Rs 824 crore, while on the upper end it will mop up Rs 901.25 crore. The issue will constitute 13.85% of the fully-diluted post issue paid-up equity share capital of the company. The proceeds of the issue will be utilized to augment the company's capital base for meeting future capital needs, for funding of loans and for general corporate purposes. ICICI Securities, Kotak Mahindra Capital Co are the book running lead managers to the issue, while HDFC Bank is the co-book running lead manager.

No comments:

Post a comment