16 December 2011

FM Welcomes Pause In RBI’s Rate Tightening Cycle : वित्त मंत्री ने आरबीआई के दर के कड़े चक्र से विराम पर स्वागत किया : 16-12-11

हिंदी अनुवाद:

वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने रिजर्व बैंक भारत (आरबीआई) का अपनी मध्य तिमाही मौद्रिक नीति के इसके दर में कड़े चक्र से विराम पर स्वागत किया है और यह भी उम्मीद बनाये रखी कि मुद्रास्फीति आगे आने वाले हफ्तों में शांत नीचे रहेगी। "व्यापार मनोभाव में सुधार और चालू वित्त वर्ष के शेष महीनों में विकास की गति को ठीक करने की आवश्यकता के लिए मौद्रिक नीति के रुख की समीक्षा जरूरी हैमुझे विश्वास है कि मुद्रास्फीति आगे आने वाले हफ्तों में उदारवादी रहेगी और इसलिए, आज कि घोषणा का स्वागत है, " मुखर्जी ने कहा।

भारतीय रिजर्व बैंक, अपनी मध्य तिमाही मौद्रिक नीति की समीक्षा में, आर्थिक गतिविधियों में मंदी की वजह से अपनी रेपो दर और रिवर्स दर को अपरिवर्तित रखाभारतीय रिजर्व बैंक ने अपनी ऋण और उधार दरों को 8.5% और 7.5% क्रमशः बनाए रखाकेंद्रीय बैंक ने भी बाजार को दर में कटौती की व्यापक अपेक्षाओं के बीच, नकद आरक्षित अनुपात को अपरिवर्तित रखने से आश्चर्यचकित कर दिया था।

ब्याज दर को नहीं बढाने के निर्णय का उद्योग और नीति निर्माताओं ने स्वागत किया हैविशेषज्ञों का विचार है कि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अपनाये गये विरोधी मुद्रास्फीति मौद्रिक नीति के रुख से विकास दर प्रभावित हुआ है भारतीय अर्थव्यवस्था कठिन समय के दोर से गुजर रही है, 2011-12 की दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि अप्रैल - जून 2011 में 7.7% की तुलना में 6.9% तक गिर गईऔद्योगिक उत्पादन भी अक्टूबर 2011 में -5.1% तक गिर गया।

English Translation:

The Finance Minister Pranab Mukherjee welcomed the Reserve Bank of India’s (RBI’s) pause from its rate tightening cycle in its mid-quarter monetary policy and also remained hopeful that inflation would calm down further in coming weeks. “The need to improve the business sentiments and recover the growth momentum in the remaining months of the current fiscal necessitated a review of the monetary policy stance.I believe that inflation will moderate further in the coming weeks and, therefore, the announcement today is welcome,” Mukherjee said.

The RBI, in its mid-quarter monetary policy review, kept its repo rate and reverse rate unchanged, because of the slowdown in economic activities. The RBI maintained its lending and borrowing rates at 8.5% and 7.5% respectively. The central bank also surprised the market by keeping Cash Reserve Ratio unchanged, amid broad expectations of a cut in the rate.

The decision of not increasing interest rate has been welcomed by the industry and policy makers. Experts are of the view that the anti-inflationary monetary policy stance adopted by the RBI has been affected the growth rate. The Indian economy is going through tough time; its economic growth in second quarter of 2011-12 fell to 6.9% compared to 7.7% in the April-June 2011. Industrial output also fell to -5.1% in October 2011.

No comments:

Post a comment