25 January 2012

Coal Prices Likely To Be Revised By Month End: Coal Minister : कोयला कीमतों के महीने के अंत तक संशोधित होने की संभावना : कोयला मंत्री : 25-01-12

हिंदी अनुवाद:

कोयला मंत्रालय ने कहा है कि सीआईएल की नई मूल्य निर्धारण तंत्र के तहत कोयले की कीमतों में चालू महीने के अंत तक नीचे की ओर संशोधित की जाएँगी। कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल इसके ऊपर कहा है कि कोल इंडिया (सीआईएल) ने कोयले के मूल्य निर्धारण के लिए अपनाई गई प्रणाली में कुछ गलती कर दी थी (नये फार्मूला के अनुसार) और उनकी राय में निश्चित मूल्य आवश्यकता से अधिक था। घटी हुयी कीमतों की 30 जनवरी तक उम्मीद की जा सकती हैलेकिन उन्होंने स्पष्ट किया की कोयला के लिए जीसीवी - आधारित मूल्य निर्धारण रद्द नहीं होगा

इससे पहले इस महीने, सरकारी खनिक ने वर्तमान ऊष्मा मान (यूएचवी) मूल्य आधारित उन्नयन से सकल कैलोरी मान (जीसीवी) गैर - कोकिंग कोयला के लिए बेंचमार्क मूल्य निर्धारण करने का निर्णय लियाजीसीवी मूल्य निर्धारण तंत्र 1 जनवरी को अस्तित्व में आया। इसके बावजूद तथ्य है कि कोयला मंत्रालय ने संकेत दिया था की नया फार्मूला राजस्व तटस्थ होगा, इसने जीवाश्म ईंधन की दरों में वृद्धि करने के लिए नेतृत्व किया था31 दिसंबर, 2011 तक कोल इंडिया ने कोयले की उपयोगी ऊष्मा मान (यूएचवी) पर आधारित मूल्य निर्धारण तंत्र का पालन किया था, जिसने मानक सूत्र से राख और नमी सामग्री कटौती की। हालांकि, 1 जनवरी से, इसने नये मूल्य निर्धारण कोयले की जीसीवी पर आधारित तंत्र के लिए स्थानांतरित कर दिया है। इस प्रणाली के तहत कोयले की कीमतों को वास्तविक कैलोरी या कोयले के मूल्य और गुणवत्ता के लिए जोड़ा गया है।

English Translational:

The Coal Ministry has said that coal prices under CIL's new pricing mechanism will be revised downward by the end of the current month. Coal Minister Sriprakash Jaiswal was coted saying that Coal India (CIL) had made some mistake in the system adopted for pricing of coal (as per the new formula) and in his opinion the price fixed was more than required. A lowering of prices could be expected by 30 January. He however clarified the GCV-based pricing for coal will not annulled.

Earlier this month, the state-run miner decided to benchmark the pricing for non-coking coal to gross calorific value (GCV) from the current useful heat value (UHV) based gradation. GCV pricing mechanism came into force on January 1. Inspite of the fact that the Coal Ministry had indicated the new formula would be revenue-neutral, it had led to an increase in rates of the fossil fuel. Till December 31, 2011, CIL had followed a pricing mechanism based on the Useful Heat Value (UHV) of coal, which deducted ash and moisture content from the standard formula. However, from January 1, it shifted to a new pricing mechanism based on the GCV of coal. Under this system, coal prices have been linked to the actual calorific value or quality of coal.

No comments:

Post a comment