2 January 2012

Foreigners To Get Direct Access To The Indian Equity Markets : विदेशियों के लिए भारतीय इक्विटी बाजारों में सीधा प्रवेश : 02-01-2012

हिंदी अनुवाद:

भारतीय बाजारों से विदेशी धन के पलायन के बारे में चिंतित, सरकार ने विदेशी व्यक्तिगत निवेशकों, पेंशन फंड और ट्रस्टों भारतीय शेयरों में सीधे निवेश करने के लिए अनुमति देने का एक साहसिक कदम उठाया है। नई योजना के तहत निवेशक 'अर्हताप्राप्त विदेशी निवेशक' (क्यूअफआई) कहा जाता है जैसे विदेशी व्यक्तिगत, विदेशी पेंशन निधि या यहाँ तक कि एक विदेशी ट्रस्ट भारतीय इक्विटी बाजार में सीधे निवेश करने में सक्षम होंगे। नई योजना के 15 जनवरी से चालू होने की उम्मीद है। क्यूअफआई की एफआईआई और अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) से एक अलग सीमा होगी। एक क्यूअफआई एक कंपनी का 5 प्रतिशत पेड - अप इक्विटी का धारण कर सकता है और सभी क्यूअफआई एक साथ मिलकर एक कंपनी में 10 फीसदी से अधिक नहीं रख सकते हैं

वित्त मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि 'निवेशकों के वर्ग को बड़ा बनाने के लिए, अधिक विदेशी धन को आकर्षित करना, बाजार में अस्थिरता को कम करना और भारतीय पूंजी बाजार गहरा बनाना' इस क्रम में किया गया है

English Translation:

Worried about the exodus of the foreign funds from the Indian markets, the government has taken a bold step allowing foreign individual investors, pension funds and trusts to directly invest in Indian equities. Under the new scheme, investors called ‘Qualified Foreign Investors' (QFIs) like foreign individual, foreign pension fund or even a foreign trust will be able to invest directly in the Indian equity market. The new scheme is expected to be operational from January 15. The QFIs will have a separate ceiling from FIIs and non-resident Indians (NRIs). A QFI can hold up to 5 per cent of paid-up equity of a company and all QFIs put together cannot hold more than 10 per cent in a company.

A finance ministry statement said that ‘this has been done in order to widen the class of investors, attract more foreign funds, reduce market volatility and deepen the Indian capital market.’

No comments:

Post a comment