13 February 2012

IVRCL’s Arm Bags Cumulative Orders Worth Rs 1429.78 Crore : आईवीआरसीएल ने 1429.78 करोड़ रुपये मूल्य का संचयी आदेश प्राप्त किया : 13-02-12

हिंदी अनुवाद:

आईवीआरसीएल असेट्स और होल्डिंग्स, आईवीआरसीएल की एक सहायक को हरियाणा राज्य में खरक कॉरिडोर परियोजना राय मलिकपुर (राजस्थान सीमा) - नारनौल - महेंद्रगढ़ - दादरी - भिवानी की हरियाणा सरकार से बीओटी (टोल) डीबीऍफ़ओटी पैटर्न पर परियोजना के रूप में क्रियान्वित करने के लिए चार लेन की 151 किलोमीटर की परियोजना मिली है। परियोजना दायरे में पुनर्सुधार, उन्नतीकरण और चौड़ा मौजूदा चलते राह को चार लेन में बदलना, नई फुटपाथ का निर्माण, मौजूदा फुटपाथ का पुनर्सुधार, बड़े और छोटे पुलों, पुलियों, सड़क चौराहों, जंक्शन, नालियों, आदि के निर्माण और / या पुनर्सुधार के मानकों के साथ, और उसका संचालन और रखरखाव शामिल है। रियायत अवधि 20 वर्ष है और निर्माण की अवधि 30 महीने हैअनुमान के अनुसार कुल परियोजना लागत (टीपीसी) 1201.70 करोड़ रुपये हैपरियोजना गलियारा राज्यों के बीच जैसे राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र उत्तरी राज्यों पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू और कश्मीर प्रमुख अंतरराज्यीय दक्षिण उत्तर के मिलान कार्य करता है।

English Translation:

IVRCL Assets & Holdings, a subsidiary of IVRCL has bagged 151 Km project of four laning of Rai Malikpur (Rajasthan Border) - Narnaul - Mahendragarh - Dadri - Bhiwani - Kharak corridor project in the state of Haryana to be executed as BOT (Toll) project on DBFOT pattern from the Government of Haryana. The project scope includes rehabilitation, up-gradation and widening of the existing carriageway to four-lane standards with construction of new pavement, rehabilitation of existing pavement, construction and/ or rehabilitation of major and minor bridges, culverts, road intersections, interchanges, drains, etc, and the operation and maintenance thereof. The concession period is 20 years and the construction period is 30 months. The estimated total project cost (TPC) is Rs 1201.70 crore. The project corridor serves as major interstate south north connectivity between the states like Rajasthan, Gujarat and Maharashtra to northern states of Punjab, Himachal Pradesh and Jammu & Kashmir.

No comments:

Post a comment