16 May 2009

जीवन बीमा निगम ने नई पेंशन की प्रणाली को वितरित किया- मई 16, 2009

हिन्दी अनुवाद:
15 मई को, जीवन बीमा निगम के कर्मचारियों के लिए और सरकारी कर्मचारियों के अलावा अन्य कार्यकर्ताओं के लिए क्षेत्रीय नियामक आईआरडीए ने एक निर्देश दिया जिससे नई पेंशन प्रणाली का वितरण रुक गया है। बीमा कंपनियों को कहा गया है की अगर वे इस नई पेंशन प्रणाली के अधीन अंक भेंट की (पीओपी) को प्राप्त करना चाहते है तो इससे पहले इस सप्ताह, आईआरडीए एक सहायक कंपनी स्थापित करनी होगी। पीओपीएस के संपर्क में और बिन्दु को एकत्रित करने के लिए ग्राहक एनपीएस के अंश में आने का इंतजार कर रहे है।

अन्य 21 पीओपीएस में, स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, आईडीबीआई बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, अक्षरेखा बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शामिल है। आईआरडीए ने कहा इस सहायक में एक निवेश गैर बीमा कम्पनी' के खातों में और परिसंपत्ति भर्ती में ऋण भर देने की कषमता मार्जिन की गणना के प्रयोजन के लिए विचार नहीं किया जाएगा इसके रूप में इसे आयोजित किया जाएगा।

English Translation:

On 15th May, Life Insurance Corporation said that it has halted distribution of the New Pension System to employees other than government staff following a directive from the sectoral regulator IRDA.Earlier this week, IRDA asked insurance companies to set up a subsidiary if they want to be Points of Presence (PoP) under the New Pension System. PoPs are contact and collection points for customers wanting to be part of NPS.

The other 21 PoPs include, State Bank of India, ICICI Bank, IDBI Bank, Oriental Bank of Commerce, Axis Bank and Union Bank of India. The investment in the subsidiary would be held as a non admitted asset in the insurance company''s accounts and would not be considered for the purpose of computation of solvency margin, IRDA said.

No comments:

Post a comment