29 December 2009

काली मिर्च फुतुरेस (वायदा बाजार) बढ़ोतरी पर - दिसम्बर 29, 2009


हिंदी अनुवाद :

सोमवार को काली मिर्च वायदा बाजार में अच्छी घरेलू मांग और सभी सक्रिय पहले सर्किट स्तर की मार के साथ अनुबंध तंग आपूर्ति की स्थिति पर उन्नत हुई|

अच्छी घरेलू खरीद समर्थन - कलि मिर्च में वृद्धि के कारणों में से एक कारण के रूप में बताया गया है| इसके अलावा, गैर सामग्री की उपलब्धता, दोनों के पुराने और नए, ने भी वृद्धि में योगदान किया|

427 रुपये की वृद्धि हुई एनसीडीईएक्स पर जनवरी अनुबंध 14,372 रुपए एक क्विंटलपर बंद हुआ| फरवरी और मार्च, 444 रुपये और 422 रुपये, क्रमशः से उठे और 14,618 रुपए और 14,810 रुपए एक क्विंटल पर बंद हुए| कुल कारोबार 7,036 टन द्वारा 8,869 टन गया था| कुल खुला ब्याज 131 टन से 12,374 टन को गिरा दिया|

जनवरी के लिए ब्याज मुक्त 628 टन से 8,089 टन हो गई, जबकि फरवरी के 527 टन की वृद्धि हुई| स्पॉट और वायदा बाजार कीमतों में 300 रुपये से ऊपर चले गए 13,600 रुपए (ungarbled) और 14,100 रुपए (म जी 1) एक क्विंटल पर बंद हुआ|


English Translation:

On Monday, pepper futures market advanced on good domestic demand and tight supply position with all the active contracts hitting the first circuit level.

Good domestic buying support is pointed out as one of the reasons for the rise in prices. Besides, non-availability of the material, both old and new, also contributed to the increase.

January contract on the NCDEX increased by Rs 427 to close at Rs 14,372 a quintal. February and March were up by Rs 444 and Rs 422, respectively, to close at Rs 14,618 and Rs 14,810 a quintal. Total turnover went up by 7,036 tonnes to 8,869 tonnes. Total open interest dropped by 131 tonnes to 12,374 tonnes.

Open interest for January dropped by 628 tonnes to 8,089 tonnes, while that of February increased by 527 tonnes. Spot prices in tandem with the futures market trend went up by Rs 300 to close at Rs 13,600 (ungarbled) and Rs 14,100 (MG 1) a quintal.

No comments:

Post a comment