30 December 2009

जिंदल पावर का विस्तार के लिए 7,200 करोड़ रुपए आईपीओ का फैसला - Jindal Power IPO - December 30, 2009


हिंदी अनुवाद:
7,200 करोड़ रुपए की आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) करने के लिए, जिंदल पावर (JPL) ने अपनी मसौदा रेड हेरिंग विवरण के दाखिल करने की घोषणा की। जनवरी, 2008 में हुए 11,500 करोड़ रुपए का सबसे बड़ा रिलायंस पावर के आईपीओ के बाद ये अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ होगा।

हालांकि, JPL को छत्तीसगढ़ में Brownfield रायगढ़ के विस्तार के लिए धन जुटाने है, और JPL के अनुसार उसे 13,410 करोड़ रुपए के निवेश के साथ अपनी उत्पादन क्षमता को दोगुना करते हुए 2,400 मेगावाट तक करना है।

इस परियोजना को 2012-2013 में खत्म होने की संभावना है, और कंपनी के कैप्टिव कोयला खानों और पौधों भी है।

इस बीच, कंपनी के शेयरों का प्रस्ताव दोनों बीएसई और एनएसई में सूचीबद्ध होने का है।

2009 में हुए 4 विद्युत क्षेत्र के रु 18,407 करोड़ आइपीओ के माध्यम से रु 12,756 करोड़ रुपए जुटाया गया। इनमें है NHPC का रु 6,039 करोड़ आईपीओ और JSW Energy का रु 2,700 करोड़ आईपीओ।

English Translation:
For an initial public offering of Rs 7,200 crore, Jindal Power (JPL) announced the filing of its draft red herring prospectus where it is the largest since the Rs 11,500-crore IPO of Reliance Power in January 2008.

However, JPL is mobilizing the funds for brownfield expansion at Raigarh in Chhattisgarh while JPL plans to more than double its production capacity to 2,400 MW with an investment of about Rs 13,410 crore.

The project is likely to be finished in 2012-2013 while the company has captive coal-mines and plants.

Meanwhile, the shares of the company are proposed to be listed on both the BSE and NSE while of the Rs 18,407 crore raised through IPOs in 2009, 4 power sector issues contributed Rs 12,756 crore.

These include NHPC''s Rs 6,039-crore issue and JSW Energy''s Rs 2,700-crore issue.

No comments:

Post a comment