30 December 2009

म्युचुअल फंड 'विलय' के खेल में शामिल - Mutual Funds Merge - December 30, 2009


हिंदी अनुवाद:
अगले साल मुतुअल फुंड बाज़ार के लिए विलय और अधिग्रहण का हो सकता है।

हालांकि, कई छोटे आस्ति प्रबंधन कंपनियों बढ़ती नकदी लागत के कारण और प्रवेश भार पर प्रतिबंध लगाने के बाद निचोड़ा मुनाफा के कारण अब बाहर निकलना चाहती हैं; और कई बड़ी निधि घर अपने AUMs inorganically बढ़ने को खोज रहे हैं।

इस बीच, यह कहा जाता है कि आस्ति प्रबंधन अंतरिक्ष में एक आसान प्रवेश पर नए खिलाड़ियों के दौड़ में भी हैं नजर गड़ाए हुए। स्पाइस वित्त निदेशक सुदीप बंद्योपाध्याय ने कहा कि वे एक साझा कोष प्राप्त करने देख रहे हैं और वहाँ मेज पर 2-3 प्रस्तावों जबकि यह सब जगह में मार्च के अंत से पहले होना चाह रहे हैं।

बाजार नियामक सेबी से एक परिसंपत्ति प्रबंधन लाइसेंस प्राप्त करना एक खतरनाक और महंगी मामला इसलिए ऐसे स्पाइस समूह और Dhanlakshmi बैंक के रूप में नए खिलाड़ियों को अकार्बनिक मार्ग से चुनने के लिए उत्सुक हैं।

Vanguard, Schroders और जापान के निको की तरह तो और भी अंतर राष्ट्रीय कम्पनियां भी वैश्विक हैं। कई मौजूदा मुतुअल फुंड कंपनियां भी जैसे- Religare और AXIS म्युचुअल फंड - इस मार्ग से अपने AUMs बढ़ने की उम्मीद है।

दूसरी ओर, सहारा, आईएनजी और Shinsei म्युचुअल फंड है, जो बाहर निकलना चाहती हैं।

म्युचुअल फंड बाज़ार में हाल के DBS Cholamandalam और L&T Finance के सौदे सिर्फ 1.55% पर ले लिया हैं।

English Translation:
The next year may be a year of mergers and acquisitions for the mutual fund industry.

However, several small asset management companies are now looking to cash out due to increasing costs and squeezed margins post the entry load ban and many big fund houses are searching to grow their AUMs inorganically.

Meanwhile, it is said that new players are also in the race eyeing an easy entry into the asset management space. Sudip Bandyopadhyay, director of Spice Finance stated that they are looking at acquiring a mutual fund and there are 2-3 proposals on the table while all this should be in place before end of March.

Getting an asset management license from market regulator Sebi is a deadly and expensive affair hence new entrants such as Spice group and Dhanlakshmi Bank are eager to opt for the inorganic route.

So are global majors like Vanguard, Schroders and Japan's Niko. Several existing fund houses like Religare and Axis mutual fund also hope to grow their AUMs by this route.

On the other hand, are fund houses like Sahara, ING and Shinsei mutual funds, who hope to cash out.

Recent deals in the mutual fund space have taken place at mouth watering valuations with the DBS Cholamandalam and L&T Finance deal at just 1.55% of assets under management.

No comments:

Post a comment