19 February 2010

Seminar on wheat to focus on productivity : गेहूं पर सेमिनार उत्पादकता पर ध्यान केंद्रित करने के लिए : 19th February

हिन्दी अनुवाद:
आयोजन समिति के अध्यक्ष श्री विनोद कपूर, ने कहा कि गेहूं पर पांचवें अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में पंजाब और हरियाणा के अलावा अन्य राज्यों में उत्पादकता बढ़ाने और सहस्राब्दि विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने पर ध्यान दिया जाएगा। पंजाब और हरियाणा राज्यों 4.21 टन एक हेक्टेयर की उत्पादकता कर रहे हैं, जबकि मध्य प्रदेश के रूप में इस तरह के रूप में के रूप में अच्छी तरह से गुजरात, राजस्थान, बिहार, उत्तर प्रदेश और उत्तरांचल राज्यों में उत्पादकता 2.7 टन एक हेक्टेयर के आसपास है। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि देश में आज, 25 लाख हेक्टेयर भूमि के आसपास के साथ गेहूं बोया, जिनमें से 17 मिलियन हेक्टेयर हरियाणा और पंजाब से बाहर हैं। उन्होंने यह भी कहा कि गेहूं के भंडार की एक आरामदायक स्तर पर देश के भीतर तक पहुँच सकता है, अगर इन राज्यों में उत्पादकता अगले चार से पांच साल में सुधार किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि गेहूं का उत्पादन इस बार के लिए अच्छा है और सरकार को होने की उम्मीद अग्रिम भंडारण मकान वगैरह की मदद लेनी चाहिए है।

English Translation:

Mr Vinod Kapoor, Chairman, Organising Committee said that the fifth international seminar on wheat will focus on enhancing the productivity in States other than Punjab and Haryana and also achieve the Millenium Development Goals. The states of Punjab and Haryana are having the productivity of 4.21 tonne a hectare, while the productivity in States such as Madhya Pradesh as well as Gujarat, Rajasthan, Bihar, Uttar Pradesh and Uttaranchal is around 2.7 tonne a hectare. Moreover, he said that in the country today, land around 25 million hectares are sown with wheat, out of which 17 million hectares are outside Haryana and Punjab. He also added that a comfortable levels of wheat stocks can be reached within the country, if the productivity in these states can be improved in the next four to five years. He said that the production of wheat this time is expected to be good and the government should seek help of the storage houses etcetera in advance.

No comments:

Post a comment