8 December 2010

CARE Assigns Grade 3/5 To SEL Textiles’ IPO : केअर ने टेक्सटाइल आईपीओ को 3 / 5 ग्रेड असाइन किया है : 8th December

हिन्दी अनुवाद:

एस एल विनिर्माण कंपनी की सहायक - एस एल कपड़ा - प्रस्तावित आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के आईपीओ के पास तीन ग्रेड / 5 रेटिंग एजेंसी केयर। मार्च 2010 में एस एल कपड़ा एक मसौदा भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के साथ रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डी आर एच पी) के लिए धन पूंजी बाजार का दोहन करने के लिए दायर की थी। ग्रेडिंग खाता एस एल `मजबूत और अनुभवी प्रबंधन, स्थापित विपणन गठजोड़ है, आपरेशन के ऊपर स्केलिंग को टेरी तौलिया और विशेष धागा घटकों और स्थान लाभ अपने कच्चे माल के लिए संयंत्र की निकटता के कारण में वेंतुरिंग से एक एकीकृत कपड़ा खिलाड़ी बनने में ले जाता है। ग्रेडिंग, तथापि, द्वारा विवश है परियोजना के कार्यान्वयन और ऑफ बड़ी क्षमता विस्तार के कारण जोखिम लेने को अगले दो वर्षों में परिकल्पना की गई। ग्रेडिंग भी खाते प्रमोटर कंपनी अर्थात के वित्तीय और विपणन सहयोग लेता है। एस एल विनिर्माण (एस एम सी एल) कंपनी, जो कपड़ा व्यवसाय में बढ़ रही है और लाभदायक आपरेशनों का ट्रैक रिकॉर्ड प्रदर्शन किया है।

English Translation:

SEL Manufacturing Company’s subsidiary - SEL Textiles’ - proposed Initial Public Offer (IPO) has got IPO Grade 3/5 from rating agency CARE. In March 2010, SEL Textiles’ had filed a Draft Red Herring Prospectus (DRHP) with the Securities and Exchange Board of India (SEBI) to tap the capital market for funds. The grading takes into account SEL`s strong and experienced management, established marketing tie-ups, scaling up of operations to become an integrated textile player by venturing into terry towel and specialized yarn segments and location advantage due to proximity of its plant to raw material source. The grading, however, is constrained by project implementation and off-take risks on account of large capacity expansions envisaged in the next two years. The grading also takes into account financial and marketing support of the promoter company viz. SEL Manufacturing Company (SMCL), which has demonstrated track record of growing and profitable operations in textile business.

No comments:

Post a comment